मन चंचल, चल राम शरण में

जीवन है संग्राम – जगत में कहीं नहीं विश्राम

संसार में यदि कहीं कोई जगह या स्थिति है जहाँ पूर्ण आनंद और शांति मिले…

तो वह है,

परमेश्वर का सानिध्य

ध्यान, सिमरन, जाप, कीर्तन-भजन; सानिध्य के साधन हैं.

यह गायन इसी आशय की जीवंत प्रस्तुति है.

सुनिए और आनंद लीजिये अलोक सहदेव जी के इस मधुर गायन का. आप इसे डाउनलोड भी कर सकते हैं.



अनुमति साभार: आदरणीय आलोक सहदेव

Digiprove sealCopyright protected by Digiprove © 2017
शेयर कीजिये

सुझाव दीजिये - कमेंट कीजिये

Posted in Music संगीत.