fbpx

Spirituality अध्यात्म

जगत का बोध

जगत का बोध – सभी को खुश रखना असंभव है

एक सीधा सादा वैरागी साधू जिसे जगत का बोध नहीं था; विचरण करते करते थका, प्यासा हो गया था. चलते चलते एक नदी के पनघट पर पहुंचा, पानी पिया और सुस्ताने का मन हुआ. पत्थर पर सिर रखकर सो गया….!!! पनघट पर पनिहारिन आती-जाती ही रहती हैं !!! वे एक समूह में आईं और साधू …

जगत का बोध – सभी को खुश रखना असंभव है Read More »

मौन की महिमा

मौन की महिमा – रोज़ रखिये और पाईये आश्चर्यजनक लाभ

मौन से वह सब घटित हो सकता है जो बोलने से नहीं होता। यही है मौन की महिमा. जब तक मन है तब तक सांसारिक उपद्रव हैं मन गया कि संसार भी गया; और संन्यास शुरू। यहाँ सन्यास का का अर्थ है फ़िज़ूल के विचारों और कर्मों से जुड़े रहने का भाव. योग कहता है… ऊर्जा और सत्य का द्वार है मौन …

मौन की महिमा – रोज़ रखिये और पाईये आश्चर्यजनक लाभ Read More »

दीपावली महापर्व deepavali diwali ka mahatv kyon karn

दीपावली महापर्व – महता, महत्व एवं व्यापकता

दीवाली भारत का इकलौता ऐसा ऐसा पर्व है जो सबसे अधिक देशों में मनाया जाता है. कई धर्म सम्प्रदायों द्वारा मनाया जाने वाला त्यौहार भी केवल दीपावली ही है. पौराणिक महत्व इस पर्व के पीछे प्रभु राम के अयोध्या आगमन के अतिरिक्त और भी कई पौराणिक और ऐतिहासिक कारण हैं जो इस पर्व को विशेष …

दीपावली महापर्व – महता, महत्व एवं व्यापकता Read More »

जीवन है अनमोल जीवन सार जीवन का अर्थ जीवन उपहार है

जीवन है अनमोल – जानिये, कितने भाग्यशाली हैं आप

जीवन के कई अर्थ लगाये जा सकते हैं. लेकिन सभी अर्थ और भावार्थ एक ही लक्ष्य को इंगित करते हैं. कि ‘जीवन है अनमोल’ बुरा कहने से बचें… सोचिये उनके बारे में, जो बोल भी नहीं सकते. हमें वाणी मिली है…. कितनी बड़ी ईश्वरीय देन है. जब मुख-जिव्हा स्वादिष्ट व्यंजन ही पसंद करते हैं. तो …

जीवन है अनमोल – जानिये, कितने भाग्यशाली हैं आप Read More »

जीवन है संग्राम

जीवन है संग्राम – जगत में कहीं नहीं विश्राम

जीवन है संग्राम – संसार में यदि कहीं कोई जगह या स्थिति है जहाँ पूर्ण आनंद और शांति मिले… तो वह है, परमेश्वर का सानिध्य ध्यान, सिमरन, जाप, कीर्तन-भजन; सानिध्य के साधन हैं. यह गायन इसी आशय की जीवंत प्रस्तुति है. जीवन है संग्राम सुनिए और आनंद लीजिये अलोक सहदेव जी के इस मधुर गायन …

जीवन है संग्राम – जगत में कहीं नहीं विश्राम Read More »

error: Content is protected !! Please contact us, if you need the free content for your website.