सूर्य नमस्कार - 12 आसनों का समूह

सूर्य नमस्कार – 12 आसनों का समूह, जो देता है अनंत लाभ

सूर्य नमस्कार की परम्परा वैदिक ऋचाओं में भी है, और योगासनों में भी. आखिर हो भी क्यों न. हम जिस धरा धाम में जीवन का आनन्द उठाते हैं उसके अधिष्ठाता सूर्यदेव ( Sun God) ही हैं. भागवतगीता में प्रभु श्रीकृष्ण ने अपने श्रीमुख से उल्लेख किया है कि अर्जुन से पहले उन्होंने गीता का ज्ञान […]

पूरा पढ़िये

मार्जारी आसन

मार्जारी आसन एक बहुत ही सरल आसन है जो कि खासतौर पर रीढ़ को लचीला बनाने के लिये किया जाता है। रीढ़ हमारे शरीर का स्‍तंभ होता है, अगर यह ठीक नहीं रहेगा तो आप ठीक से काम नहीं कर पाएंगे। मार्जारी आसन करने में बहुत ही आसान है। अगर आपको पीठ दर्द रहता है […]

पूरा पढ़िये
अर्ध-मत्स्येन्द्रासन

अर्ध-मत्स्येन्द्रासन – करने की विधि और लाभ

कहते हैं कि अर्ध-मत्स्येन्द्रासन की रचना गोरखनाथ के गुरु स्वामी मत्स्येन्द्रनाथ ने की थी। वे इस आसन में ध्यानस्थ रहा करते थे। मत्स्येन्द्रासन की आधी क्रिया से  ही अर्ध-मत्स्येन्द्रासन प्रचलित हुआ। रीढ़ की हड्डियों के साथ उनमें से निकलने वाली नाड़ियों को यह आसन पुष्ट करता है। ‪‎करने‬ ‪‎की‬ ‎विधि 1. दोनों पैरों को लंबे करके […]

पूरा पढ़िये
तुम ही मैं हूँ, फिर चिन्तन क्या, मैं ही तुम हो, फिर उलझन क्या

दंङ धौती क्रिया

  कैसे करें ये किया प्रात:काल खाली  पेट की जाती है. इस क्रिया में 15 से 18  इंच लम्बी लचीली रबर की पाइप ली जाती है. पहले इस क्रिया को करने के लिये केले के मृदु भाद के डंडे को लिये जाता था  जिस कारण ही इसका नाम दंड धोती क्रिया पड़ा होगा. इस पाइप […]

पूरा पढ़िये
vakrasana

वक्रासन करने की विधि और 12 फायदे

  आजकल के गलत खान-पान और व्यायाम की कमी के चलते हमारे शरीर में चर्बी की मात्रा अधिक हो जाती है। जिससे हमारा शरीर बेडौल और मोटा दिखाई देने लगता है। शरीर को चुस्त दुरुस्त बनाए रखने के लिए हमें नियमित रूप से योगासन का सहारा लेना चाहिए। योग करने से ना केवल शरीर सुन्दर बनता […]

पूरा पढ़िये