Home » एसिडिटी के कारण और 10 उपाय – जानिये, अपनाईये

एसिडिटी के कारण और 10 उपाय – जानिये, अपनाईये

एसिडिटी के कारण और 10 उपाय acidity gastritis ka upchar ilaj upay in hindi, pet ki gas gas acidity ka ilaj acidity rog hindi gas problem solution tips acidity problem in chest ayurvedic medicine for acidity by baba ramdev acidity ka gharelu ilaj in hindi acidity problem solution in ayurvedic acidity symptoms in chest in hindi stomach gas problem solution in hindi acidity problem solution in gujarati home remedies for gas acidity home remedies home remedies for acidity and gas problem acidity symptoms how to cure acidity permanently best medicine for acidity in the stomach acidity in stomach home remedy best medicine for acidity and gas acidity problem solution acidity problem home remedies acidity remedies acidity remedy how to reduce acidity and gas problem best home medicine for acidity home remedies for acidity foods that cause acid reflux acid reflux symptoms chest pain acidity chemistry acidity home remedies in marathi acid reflux treatment acid reflux diet acid reflux throat acidity tablets acid reflux home remedies acidity in hindi acidity problems acidity home remedies in hindi how to reduce stomach acid and gas naturally home remedies for heartburn relief does milk help acid reflux acid reflux treatment home remedy how to get rid of acid reflux in throat heartburn remedies milk home remedies for heartburn during pregnancy does milk help heartburn is milk good for heartburn best heartburn medicine for immediate relief how to cure gerd permanently apple cider vinegar for acid reflux home remedies for heartburn while pregnant natural alternatives to antacids medicine for acidity and gas tablet for gas and acidity

हमारे पेट में बनने वाला एसिड या अम्ल भोजन को पचाने का काम करता है,

लेकिन कई बार पचाने के लिए पेट में पर्याप्त भोजन ही नहीं होता या फिर एसिड आवश्यक मात्रा से अधिक बनता है।

ऐसे में एसिडिटी या अम्लता की समस्या हो जाती है।

जानिए क्या हैं एसिडिटी के कारण और 10 उपाय.

एसिडिटी के कारण और 10 उपाय

इस रोग को पेट की जलन या हार्टबर्न भी कहा जाता है।

तनाव, अनिद्रा, तेज़ दवाओं का सेवन,  आमतौर पर एसिडिटी की प्रमुख वजह है।

वसायुक्त और मसालेदार भोजन का सेवन भी पचने में जटिल होता है

और एसिड पैदा करने वाली कोशिकाओं को आवश्यकता से अधिक एसिड बनाने के लिए उत्तेजित करता है।

लगातार बाहर का भोजन करना।

भोजन करना भूल जाना।

अनियमित तरीके से भोजन करना। दो बार के भोजन में अधिक अंतराल रखने से भी एसिडिटी हो सकती है।

मसालेदार खाने का ज्यादा सेवन करना।

विशेषज्ञों का मानना है कि तनाव भी एसिडिटी का एक कारण है।

काम का अत्यधिक दबाव या पारिवारिक तनाव लंबे समय तक बना रहे तो शारीरिक तंत्र प्रतिकूल तरीके से काम करने लगता है

और पेट में एसिड की मात्रा आवश्यकता से अधिक बनने लगती है।

एसिडिटी के उपाय

1 पानी

सुबह उठते ही पानी पिएं

रात भर में पेट में बने आवश्यकता से अधिक एसिड को पानी के जरिए शरीर से बाहर निकाला जा सकता है।

2 फल

अमरुद, केला, तरबूज, पपीता और खीरा को रोजाना के भोजन में शामिल करें।

तरबूज का रस भी एसिडिटी के इलाज में बड़ा कारगर है।

3 नारियल पानी

यदि एसिडिटी की शिकायत है, तो नारियल पानी पीने से काफी आराम मिलता है।

4 अदरक

खाने में अदरक का प्रयोग करने से पाचन क्रिया बेहतर होती है और इससे जलन को रोका जा सकता है।

5 ठंडा दूध

भोजन के अम्लीय प्रभाव को दूध पूरी तरह निष्प्रभावी कर देता है और शरीर को आराम देता है।

एसिडिटी के इलाज के तौर पर दूध लेने से पहले डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए, क्योंकि कुछ लोगों में दूध एसिडिटी को बढ़ा भी सकता है।

6 सब्जियां

बींस, सेम, कद्दू, बंदगोभी और गाजर का सेवन करने से एसिडिटी रोकने में मदद मिलती है।

7 लौंग

एक लौंग अगर कुछ देर के लिए मुंह में रख ली जाए तो इससे एसिडिटी में राहत मिलती है।

लौंग का रस मुंह की लार के साथ मिलकर जब पेट में पहुंचता है, तो इससे पित्त जल जाता है और काफी आराम मिलता है।

8 कार्बोहाइड्रेट

कार्बोहाइडे्रट से भरपूर भोजन जैसे चावल एसिडिटी रोकने में मददगार है, क्योंकि ऐसे भोजन की वजह से पेट में एसिड की कम मात्रा बनती है।

9 समय से भोजन

रात का भोजन सोने से दो से तीन घंटे पहले अवश्य कर लेना चाहिए।

इससे यह सुनिश्चित हो सकेगा कि भोजन पूरी तरह से पच गया है। इससे आपका स्वास्थ्य बेहतर होगा।

10 व्यायाम

नियमित व्यायाम और ध्यान की क्रियाएं पेट, पाचन तंत्र और तंत्रिका तंत्र का संतुलन बनाए रखती हैं।

किन चीज़ों से बचें

तला भुना, वसायुक्त भोजन, अत्यधिक चॉकलेट और जंक पदार्थों से परहेज करें।

शरीर का वजन नियंत्रण में रखने से एसिडिटी की समस्या कम होती है।

धूम्रपान और किसी भी तरह की मदिरा का सेवन एसिडिटी बढ़ाता है, इसलिए इनसे परहेज करें।

सोडा आधारित शीतल पेय व कैफीन आदि का सेवन न करें।

इसकी बजाय हर्बल टी का प्रयोग करना बेहतर है।

घर का बना खाना ही खाएं।

जितना हो सके, बाहर के खाने से बचें।

कम मात्रा में थोड़े-थोड़े! समय अंतराल पर खाना खाते रहें।

अचार, मसालेदार चटनी और सिरके का प्रयोग भी न करें।

Post Courtesy: JAIDEV YOGACHARYA (Therapist & Yogacharya)
SARAV DHARAM YOG ASHRAM.  MOB. +917837139120





 

शेयर कीजिये