Home » आमिया (आम्बिया) हल्दी – अति गुणकारी वनौषधि

आमिया (आम्बिया) हल्दी – अति गुणकारी वनौषधि

आमिया (आम्बिया) हल्दी (Mango ginger, Wild Turmeric) Botanical name : Curcuma amada, एक गुणकारी वनौषधि है।

इसके के पौधे हल्दी की ही तरह होते हैं।

दोनों में अंतर यह है कि आम्बिया हल्दी के पत्ते लम्बे तथा नुकीले होते हैं।

आमिया (आम्बिया) हल्दी की गांठ छोटी और भीतर से लाल होती है, किन्तु हल्दी की गांठ बड़ी और पीली होती है।

आम्बिया हल्दी में सिकुड़न तथा झुर्रियां नहीं होती हैं।

अन्य नाम

Mango turmeric, कपूर हल्दी, आंबिया हल्दी, आमी हल्दी, आम्बा हल्दी,

आंबे हळद, दार्वी, मेदा, आम्रगन्धा, सुरभीदारू, दारू, कर्पूरा, पदमपत्र,

आमआदा, आबे हल्द, आम्बिया हल्दर, पालुपसुप इत्यादि आमिया हल्दी के अन्य नाम हैं.

आईये जानते हैं क्या हैं इस के गुण लाभ उपयोग और फायदे..

आमिया (आम्बिया) हल्दी – पहचान और गुण

आम्बिया हल्दी लालिमा लिए हुए पीली रंग की होती है।

स्वाद में यह कड़वी और तेज होती है।

यह एक पौधे गठान भरी जड़ है जो मिट्टी में पनपती है।

आमिया (आम्बिया) हल्दी gun fayde labh upyog हल्दी का लेप हल्दी की खेती कैसे करें हल्दी के पत्ते का उपयोग हल्दी का बीज हल्दी के प्रकार हल्दी का उपयोग हल्दी का वैज्ञानिक नाम हल्दी क्या है हल्दी जड़ है या तना काली हल्दी की खेती हल्दी के नुकसान हल्दी के औषधीय गुण हल्दी के उपाय हल्दी कितने प्रकार की होती है अम्बा हल्दी हल्दी के फायदे स्किन के लिए हल्दी और शहद हल्दी दूध के फायदे हल्दी का वानस्पतिक नाम हल्दी का वर्गीकरण हल्दी का पौधा आंबेहळद उपयोग मैदा लकड़ी आंबी हळद हल्दी का पानी आमिया हल्दी आमी हल्दी का उपयोग आम्बा हल्दी के फायदे अम्बा हल्दी बेनिफिट्स इन हिंदी आमा हल्दी के फायदे सफेद हल्दी चोट सज्जी आमा हल्दी आंबे हळद उपयोग आमी हल्दी के लाभ हल्दी काली हल्दी वशीकरण काली हल्दी क्या है काली हल्दी के उपयोग काली हल्दी का पौधा काली हल्दी मिलने का स्थान काली हल्दी का तिलक काली हल्दी की कीमत काली हल्दी प्राइस असली काली हल्दी की पहचान काली हल्दी के फायदे काली हल्दी कहा मिलेगी काली हल्दी की पहचान काली हल्दी कहा मिलती है हल्दी दूध के फायदे और नुकसान हल्दी दूध पीने के फायदे सोने से पहले हल्दी दूध लाभ हल्दी और गर्म पानी हल्दी दूध बनाने की विधि हल्दी का पानी बनाने की विधि मैं गर्भावस्था के दौरान हल्दी दूध ले जा सकते हैं हल्दी के फायदे

आम्बिया हल्दी वायु को शांत करती है, पाचक है, पथरी को तोड़ने वाली,

पेशाब की रुकावट को खत्म करने वाली, घाव और चोट में लाभ करने वाली,

मंजन करने से मुंह के रोगों को खत्म करने वाली है।

यह खांसी, सांस और हिचकी में लाभकारी होती है।

इसकी तासीर गरम होती है।

आम्बा हल्दी के फायदे और विभिन्न रोगों में उपयोग

पेट में दर्द में

आंबेहळद और कालानमक को मिलाकर पानी के साथ पीने से पेट के दर्द में आराम होता है।

पीलिया रोग

सात ग्राम आमाहल्दी का चूर्ण, पांच ग्राम सफेद चंदन का चूर्ण शहद में मिलाकर

सुबह और शाम सात दिन तक खाने से पीलिया रोग मिट जाता है।

खाज-खुजली और चेहरे के काले दाग

आमाहल्दी को पीसकर शरीर में जहां पर खाज-खुजली हो वहां पर लगाने से आराम आता है।

aami haldi benefits amba haldi haldi ke fayde amba haldi benefits in hindi benefits of amba haldi for face amba haldi uses in hindi haldi ke fayde bataye kachi haldi how to use turmeric on face for glowing skin turmeric for face daily turmeric for skin whitening amba haldi benefits for skin in marathi turmeric benefits for acne turmeric benefits for skin side effects of applying turmeric on face amba haldi in english amba haldi side effects amba haldi patanjali amba haldi and haldi amba haldi benefits for skin amba haldi powder online amba haldi pickle amba haldi for pain haldi pani ke fayde haldi ke fayde for skin in hindi haldi doodh ke fayde in hindi haldi ke nuksan haldi ke fayde face ke liye haldi ke fayde or nuksan kachi haldi ke fayde amba haldi for pain in hindi amba haldi uses amba haldi in marathi amba haldi for fair skin in hindi amba haldi for acne is amba haldi and kasturi manjal same aami haldi for skin kasturi haldi aami haldi haldi ke fayde youtube haldi in hindi haldi lagane ke fayde how to use kachi haldi kachi haldi benefits in hindi kachi haldi ka achar kachi haldi in english how to use kachi haldi on face benefits of kachi haldi on face raw turmeric how to eat raw turmeric

उपदंश (फिरंग) के रोग में

आमाहल्दी, राल और गुड़ 10-10 ग्राम, नीलाथोथा और गुग्गुल 6-6 ग्राम इन सबको मिलाकर पीस लें

और बद पर बांधे इससे तुरन्त लाभ मिलता है।

सूजन पर

आम्बिया हल्दी को ग्वारपाठा (ऐलोवेरा) के गूदे पर डालकर कुछ गरम करके बांधने से सूजन दूर होती है तथा घाव को भरती है।

 

शीतला (मसूरिका) ज्वर के निशान होने पर

आमाहल्दी, सरकण्डे की जड़ और जलाई हुई कौड़ी को कूटकर छान लें।

फिर भैंस के दूध में मिलाकर रात के समय चेहरे पर लगाकर सो जायें। पानी में भूसी को भिगो दें।

सुबह और शाम उसी भूसी वाले पानी से मुंह को धोने से माता के द्वारा आने निशान (दाग-धब्बे) दूर हो जाते हैं।

चोट लगने पर

चोट सज्जी, अम्बा हल्दी 10-10 ग्राम को पानी में पीसकर कपड़े पर लगाकर चोट (मोच) वाले स्थान पर बांध दें।

आम्बिया हल्दी को पीसकर, गरम करके बांधने से चोट को अच्छा करती है तथा सूजन दूर होती है।

पपड़िया कत्था 20 ग्राम अम्बा हल्दी 20 ग्राम कपूर, लौंग 3-3 ग्राम पानी में पीसकर चोट मोच पर लगाकर पट्टी बांध दें।

अम्बाहल्दी, मुरमक्की, मेदा लकड़ी 10-10 ग्राम लेकर पानी में पीसकर हल्का गर्म कर चोट पर लगायें।

घाव

अम्बाहल्दी, चोट सज्जी 10-10 ग्राम पीसकर 50 मिलीलीटर गर्म तेल में मिला दें।

ठंडा होने पर रूई भिगोकर घाव, जख्म पर बांध दें।

हड्डी की चोट

चौधारा, अम्बा हल्दी 10-10 ग्राम पीसकर घी में भून लें।

उसमें सज्जी और सेंधानमक 5-5 ग्राम पीसकर मिला लें। फिर टूटी हड्डी और गुम चोट पर बांधने से लाभ होता है।

अम्बा हल्दी 3-3 ग्राम पानी से सुबह-शाम लें

और मैदालकड़ी, कुरण्ड, चोट सज्जी, कच्ची फिटकरी, अम्बा हल्दी 10-10 ग्राम पानी में पीसकर कपड़े पर फैलाकर

चोट पर रखकर रूई लगाकर बांध दें।

गिल्टी (ट्यूमर)

आमाहल्दी, अलसी, घीग्वार का गूदा और ईसबगोल को पीसकर एक साथ मिला लें.

इसे आग पर गर्म करने के बाद गिल्टी पर लगाने से लाभ होता है और सूजन मिट जाती है।

10 ग्राम आमाहल्दी, 6 ग्राम नीलाथोथा, 10 ग्राम राल, 6 ग्राम गूगल और 10 ग्राम गुड़ इसमें से सूखी वस्तुओं को पीसकर और उसमें गुड़ मिलाकर बांधें तो आराम होगा और जल्द ही फूट जायेगा।

आमाहल्दी, चूना और गुड़ सबको एक ही मात्रा में लेकर पीसे और बद पर लेप कर दें। इससे गिल्टी जल्द फूट जायेगी।

अनुपान मात्रा

आम्बिया हल्दी 2 से 4 ग्राम तक की मात्रा में सेवन की जाती है.

गर्म तासीर होने के कारण अधिक सेवन उचित नहीं, ऐसा बताया जाता है.