fbpx

Gut-CLR (गट सी एल आर)

520

यदि समय समय पर पेट की सफाई की जाती रहे तो पाचन तंत्र की क्रियाशीलता उत्तम बनी रहती है जो हमें कई रोगों से बचा सकती है.

Gut-CLR पेट की सफाई के लिए एक बेहद उत्तम योग है जिसके उपयोग से पेट में विषाणुओं के जमाव की रोकथाम करने में सहायता मिलती है और पाचन क्रिया बलवान बनी रहती है.

Category:

नीरोगी रहने और हर रोग के निवारण के लिए पेट की सफाई पहला कदम है और Gut-CLR (गट सी एल आर) है इसका सही उपाय.

आयुर्वेद में पंचकर्म का विधान है, जिससे काया का शोधन हो जाता है. विभिन्न रोगों के अनुसार पंचकर्म क्रिया 7 दिन से लेकर 60 दिन तक चलती है.

Gut-clr

आजकल के समय में जब इतना समय किसी के पास नहीं होता कि वह काम छोड़ कर कायाकल्प के लिए अस्पताल में या पंचकर्म केंद्र में भर्ती हो जाए, यह क्रिया अक्सर छोड़ दी जाती है.

Gut-CLR पेट की सफाई के लिए एक बेहद उत्तम योग है जिसके उपयोग से पेट में विषाणुओं के जमाव की रोकथाम करने में सहायता मिलती है और पाचन क्रिया बलवान बनी रहती है.

कई रोगों जैसे IBS संग्रहणी में आंतें और पाचन क्रियाये दोनों ही कमज़ोर हो जाती है, इसलिए सनाय और अमलतास जैसे तीव्र विरेचक नहीं देने चाहिए. ऐसे रोगों में Gut-CLR का उपयोग अति हितकारी है. इसमें केवल सौम्य योगों का उपयोग किया गया है, जो कमज़ोर पेट के लिए उपयुक्त माने गए हैं.

इसका उपयोग हर माह में 2 से 5 दिन तक करने से पेट के विकार निकल जाते हैं, पाचन क्रिया दुरुस्त हो जाती है और पेट के भारीपन से निजात मिल जाती है.

Gut-CLR (गट सी एल आर) के संयोजक तत्व

GutCLR (गट सी एल आर) के प्रति 5 ग्राम मुख्य संयोजक तत्व इस प्रकार हैं

Carum copticum ext 600mg

Aegle marmelos ext 500mg

Terminalia chebula  1200mg

Terminalia belerica 1200mg

Emblica officinalis 1200mg

Trikatu Extract 250mg

पैकिंग

Quantity 150 gram HDPE broad-mouth jar.

सेवन विधि

आधा चम्मच (लगभग 2 ग्राम) दिन में दो बार. सुबह खाली पेट और रात को सोते समय. पानी  के साथ या चिकित्सक के विशेष निर्देशानुसार. पुरानी और अधिक कब्ज़ में सेवन मात्रा दुगुनी भी की जा सकती है.

error: Content is protected !! Please contact us, if you need the free content for your website.