Home » तुलसी – जानिये क्या हैं 21 अनुभूत नुस्खे और उपयोग

तुलसी – जानिये क्या हैं 21 अनुभूत नुस्खे और उपयोग

तुलसी

दुनिया भर में तुलसी (Holy Basil, botanical name: Ocium sanctum) की कई प्रजातियाँ पाई जाती हैं.

जिनकी अपनी अपनी विशेष सुगंध होती है, लेकिन गुण धर्म सामान्यत: एक जैसे ही पाये जाते हैं.

भारत में रामा, श्यामा तुलसी के अतिरिक्त वनतुलसी और लौंग तुलसी का उपयोग अधिक किया जाता है.

इसके गुणों के चलते इसे हर घर में देवीतुल्य माना जाता है.

आईये जानते हैं, इस बेजोड़ औषधीय वनस्पति के 21 महत्वपूर्ण अनुभूत उपयोगों के बारे में…

तुलसी अर्क के फायदे तुलसी पत्ते चबाने के नुकसान तुलसी के बीज का महत्त्व तुलसी के फायदे और नुकसान तुलसी रस पतंजलि तुलसी के उपयोग इन हिंदी तुलसी के पत्ते कैसे खाये तुलसी के फायदे चेहरे के लिए तुलसी अर्क साइड इफेक्ट्स पंच तुलसी के फायदे जॉली तुलसी 51 के फायदे तुलसी अर्क बनाने की विधि पतंजलि तुलसी अर्क प्राइस श्री तुलसी के फायदे श्री तुलसी अर्क पतंजलि तुलसी अर्क के फायदे तुलसी के पत्तों का सेवन खाली पेट तुलसी खाने के फायदे तुलसी के पत्ते खाने के क्या फायदे है सुबह खाली पेट तुलसी खाने के फायदे तुलसी के नुकसान तुलसी के बीज के फायदे तुलसी के बीज का उपाय तुलसी के बीज का भाव तुलसी के बीज का उपयोग कैसे करे तुलसी के बीज का उपयोग कैसे करें तुलसी बीज पान तुलसी के बीज के टोटके तुलसी बीज के फायदे इन हिंदी तुलसी बीज और पान तुलसी की जानकारी तुलसी अर्क पतंजलि पतंजलि तुलसी घनवटी बेनिफिट्स पतंजलि तुलसी अमृत तुलसी ड्रॉप्स तुलसी रस के फायदे तुलसी के पत्ते खाने के फायदे तुलसी का रस चेहरे पर लगाने के फायदे तुलसी के फायदे हिंदी में तुलसी फोर स्किन तुलसी बेनिफिट्स फोर स्किन

1 यदि आप नित्य इसके पत्ते चाय या दूध में मिला कर पीते हैं तो खांसी जुकाम से बच सकते हैं।

इसके पत्तों का काढ़ा पीने से फेफड़ों की  बलगम साफ़ हो जाती है.

2 प्रातःकाल ख़ाली पेट 2-3 चम्मच तुलसी के रस का सेवन करें तो शारीरिक बल एवं स्मरण शक्ति में वृद्धि होती है।

3 इसके रस का सेवन पसीने की बदबू में भी लाभकारी होता है.

4 वजन को नियंत्रित रखने में तुलसी परम गुणकारी है.

इसके नियमित सेवन से वजन घटता है एवं दुबले व्यक्ति का वजन बढ़ता है.

अर्थात यह शरीर का वजन आनुपातिक रूप से नियंत्रित करती है.

रोज़ उपयोग कीजिये, तुलसी

5 चाय बनाते समय यदि इसके कुछ पत्ते साथ में उबाल लिए जाएँ तो बुखार एवं मांसपेशियों के दर्द में राहत मिलती है।

6 तुलसी में तनाव रोधीगुण भी पाए जाते हैं।

शोध बताते हैं कि यह तनाव से बचाती है।

तनाव से बचने के लिए इसके 10-12 पत्तों का सेवन नित्य दो बार करें।

7 इसके उपयोग से अनिद्रा रोग में लाभ मिलता है.

सोते समय दूध में इसकी 8-10 पत्तियां डालने से नींद अच्छी आती है।

8 यह प्रदूषण जन्य रोगों जैसे अस्थमा, एलर्जी से भी सुरक्षित रखती है।

9 एक मान्यता है कि तुलसी की माला पहनने से टांसिल नहीं होता।

तुलसी के 11 औषधीय नुस्खे, उपयोग tulsi leaves side effects how to eat tulsi leaves uses of neem tulsi leaves for weight loss tulsi ark patanjali tulsi leaf in english benefits of tulsi green tea for skin uses of tulsi plant benefits of eating tulsi leaves in empty stomach tulsi leaf cancer benefits of tulsi for skin tulsi tea benefits tulsi juice patanjali tulsi wikipedia holy basil side effects dangers tulsi leaves for skin how much tulsi should i take holy basil side effects mayo clinic pancha tulasi drops reviews best time of day to take holy basil tulsi plant information tulsi plant care tulsi plant for sale how to make tulsi tea benefits of tulsi tea tulsi tea should we chew tulsi how to use tulsi leaves for hair tulsi leaves for pimples tulsi powder face pack benefits effect of tulsi on sperm count holy basil for anxiety holy basil dosage does holy basil contain mercury tulsi plant holy basil tulsi benefits in hindi tulsi uses tulsi honey tulsi and honey for cough benefits of eating tulsi leaves daily tulsi uses in hindi tulsi plant in english can we chew tulsi leaves how much tulsi leaves should i take medicinal uses of tulsi medicinal uses of tulsi wikipedia benefits of tulsi for skin in tamil benefits of eating tulsi leaves in morning benefits of eating tulsi leaves for skin tulsi green tea weight loss reviews benefits of tulsi leaves for eyes holy basil weight loss reviews does basil help you lose weight tulsi leaves for hair how to use tulsi for cancer tulsi leaves benefits

10 नियमित थोड़े दिनों तक इसके रस में शहद मिलाकर लेते रहने से मेधा शक्ति बढ़ती है.

भूलने की प्रवृति में लाभ मिलता है.

11 समभाग तुलसी, ब्राह्मी व मंडूकपर्णी का उपयोग किया जाए तो बच्चों का बेहतर मानसिक विकास होता है.

रोग निवारक भी होती है तुलसी

12 पानी में इसके पत्ते डालकर रखने से पानी बैक्टीरिया रहित हो जाता है और सुगन्धित भी.

परिणामस्वरूप अधिक पानी पीने की चाह होती है

जो शरीर के विषद्रव्यों की निकासी में सहायक रहती है.

13 मान्यता यह भी है कि यह भोजन को शुद्ध करती है.

इसके पत्तों को ग्रहण लगने के पहले भोजन में डाल देते हैं जिससे सूर्य या चंद्र की विकृत किरणों का प्रभाव भोजन पर नहीं पड़ता।

14 सब्जी पुलाव इत्यादि  में इसके पत्ते डालने से खाने की पौष्टिकता व महक बढ़ जाती है।

15 तुलसी रक्त अल्पता के लिए उपयोगी है।

इसके नियमित सेवन से हीमोग्लोबीन से बढ़ता है व स्फूर्ति बनी रहती है।

16 तुलसी के रस को त्वचा पर मल कर कील मुहांसों से निजात पाई जा सकती है।

17 ज्वर, वमन में  इसके पत्र कालीमिर्च के साथ पीसकर पिलाने से वमन तथा ज्वर में शीघ्र लाभ मिलता है।

18 तुलसी वातावरण को शुद्ध रखती हैं।

इसके रस में प्रोटोजोआ और मच्छर को नष्ट करने की शक्ति पाई जाती हैं।

घर के आगे तुलसी का पौधा लगाने से मच्छरों का प्रकोप कम हो जाता है।

19 बच्चों की सर्दी, बुखार, उल्टी दस्त आदि में तुलसी का रस लाभदायक है।

यदि चिकनपॉक्स (माता) हो जाये तो केसर के साथ तुलसी पत्र लेने से शीघ्र लाभ मिलता है।

20 इसके पत्तों का उपयोग पक्षाघात अथवा लकवा (Paralysis) में भी लाभ कारी रहता है।





शेयर कीजिये

आपके सुझाव और कमेंट दीजिये