गुलाब के 17 अनुभूत उपयोग gulab ke gun labh fayde upyog gulkand

गुलाब के 17 अनुभूत उपयोग; अपनाईये ज़रूर

आयुर्वेद में गुलाब (Rose) को महाकुमारी, शतपत्री व तरूणी आदि नामों से जाना जाता है। आईये जानते है क्या हैं गुलाब के 17 अनुभूत उपयोग.

गुलाब प्रायः सर्वत्र होता है।

भारतवर्ष में यह पौधा प्राचीन काल से लगाया जाता है और कई स्थानों में जंगली भी पाया जाता है।

कश्मीर, हिमाचल, उत्तराखंड, नेपाल और भूटान में श्वेत, गुलाबी ब पीले फूल के जंगली गुलाब बहुत मिलते हैं।

वन्य अवस्था में गुलाब में चार-पाँच छितराई हुई पंखड़ियों की एक हरी पंक्ति होती है

लेकिन बगीचों में सेवा और यत्नपूर्वक लगाए जाने से पंखड़ियों की संख्या में बृद्धि होती है यद्यपि केसरों की संख्या घट जाती हैं।

सैकड़ों प्रकार के फूलवाले गुलाब कलम, पैबंद (Cutting & grafting) आदि के द्बारा भिन्न-भिन्न जातियों के मेल से उत्पन्न किए जाते हैं।

गुलाब की कलम ही मुख्यतःलगाई जाती है।

इसके फूल कई रंगों के होते हैं, लाल (कई मेल के हलके गहरे) पीले, सफेद इत्यादि।

सफेद फूल के गुलाब को सेवती कहते हैं।

कहीं कहीं हरे और काले रंग के भी फूल होते हैं।

लता की तरह चढ़नेवाले गुलाब के झड़ भी होते हैं।

ऋतु के अनुसार गुलाब के दो भेद भारतबर्ष में माने जाने हैं सदाबहार गुलाब और चैती।

सदागुलाब प्रत्येक ऋतु में फूलता है और चैती गुलाब केवल बसंत ऋतु में।

गुलाब के 17 अनुभूत उपयोग gulab ke gun labh aushdhiy fayde upyog gulkand गुलाब का फूल खाने के फायदे गुलाब के पत्ते गुलाब के फूलों का उपयोग गुलाब के फूल खाने के फायदे गुलाब की पत्ती गुलाब की पत्ती का उपयोग गुलाब जल के गुण गुलाब के फूल का गंध गुलाब का फूल की जानकारी गुलाब के औषधीय गुण गुलाब के फूल फोटो गुलाब के उपयोग गुलाब के पत्ते का उपयोग गुलाब के पत्ते के फायदे गुलाब के फूल पर निबंध गुलाब की पत्ती के फायदे गुलाब के फूल के उपयोग गुलाब जल पीने के फायदे गुलाब जल के नुकसान गुलाब जल के उपयोग चेहरे के लिए गुलाब जल आँखों के लिए गुलाब जल का उपयोग कैसे करे गुलाब जल आंखों के लिए शहद और गुलाब जल ग्लिसरीन और गुलाब जल गुलाब के फूल की खेती गुलाब फूल गुलाब का वानस्पतिक नाम फूलों का महत्व गुलाब का फूल फूल की जानकारी गुलाब का वैज्ञानिक नाम क्या है

चैती गुलाब में विशेष सुगंध होती है और वही इत्र और दवा के काम में लिया जाता है।

स्वास्थ्य उपयोग के लिये चैती अथवा देसी गुलाब का ही उपयोग किया जाता है

जिसका रंग गुलाबी और सुगंध भी गुलाबी मानी जाती है.

गुलाब के 17 अनुभूत उपयोग; अपनाईये ज़रूर इन्हें

1 गुलाब का फूल विटामिन सी से भरपूर होता है।

विटामिन सी की कमी को दूर करने के लिए गुलकंद एक बेहद उपयोगी विकल्प है।

2 गुलाब का शर्बत मस्तिष्क को शीतल और शक्ति देता है।

साथ ही साथ गुलाब के फूलों का रस खून को साफ भी करता है।

3 गुलाब जल आंखों की जलन के लिए और चेहरे संबंधी कई विकारों को दूर करता है।

फिटकरी में गुलाबजल को मिलाकर उपयोग करने से कई त्वचा रोग जैसे कील, मुहांसे, दाद, खाज इत्यादि खत्म होते हैं।

4 कान में दर्द होने पर गुलाब की पत्तियों के रस की थोड़ी बूंदे कान में डालने से कान के दर्द में राहत मिलेगी।

5 गुलाब के अर्क में नींबू का रस मिलाकर दाद पर लगाने से दाद ठीक हो जाता है।

शीतल सुवासित गुण

6 जी मिचलाना, गले में जलन, सीने में जलन जैसे रोगों को दूर करने के लिए 1 कप गुलाब जल, चैथाई कप संतरे का रस और चौथाई कप चूने का पानी को मिलाकर दिन में 2 बारी सेवन करें.

आपको इन रोगों से निजात मिल जाएगा।

7 शरीर में जलन होने पर या हाथ पैर में जलन होने पर गुलाबजल को चंदन में मिलाकर इसका लेप लगाएं।

8 खाना खाने के बाद गुलकंद खाने से पाचन ठीक रहता है।

9 मुंह की बदबू  के लिए गुलाब के फूल, लौंग और चीनी को गुलाब जल में पीसकर गोलियां बनाकर चूसें।

यह मुंह की दुर्गंध को दूर करता है।

gulab ki patti ke fayde benefits of flowers in hindi gulab ka phool medicinal uses of rosa indica rose tincture benefits benefits of rose bushes roses herbal medicine gulab ki patti ke fayde gulab ke phool gulab ka phool gulab ke phul gulab ki patti ka face pack gulab ke phoolon ka guldasta gulab full gulab ke phool shayari gulab ki pattiyo ke fayde gulab ke phool ke upyog rose flower ke fayde gulab ki patti in english gulab ki kheti gulab ke phool images gulab ke phool hd gulab ke phool ke fayde gulab ka phool banane ka tarika gulab ke phool ki kadhai

10 चंदन के तेल में गुलाब के अर्क को मिलाकर मालिश करने से शीत पित्त में फायदा मिलता है।

11 अत्यधिक गर्मी लगने पर या जलन होने पर 5 इलायची, 10 ग्राम गुलाब की पंखुड़ी, 5 काली मिर्च और 10 ग्राम मिश्री को पीसकर हर चार घंटे पर पीएं।

आपको आराम मिलेगा।

12 सफेद चंदन पाउडर में कपूर और गुलाब जल को मिलाकर माथे पर लगाने से सिर का दर्द ठीक हो जाता है।

 

रोगहर

13 सनाय की पत्ती को गुलकंद के साथ सेवन करने से कब्ज दूर होती है।

14 मुंह के छालों से निजात पाने के लिए सुबह-सुबह गुलकंद का सेवन करें।

15 लू लगने पर ठंडे पानी में गुलाबजल मिलाकर माथे पर पट्टी रखें।

16 टीबी की बीमारी से होने वाली कमजोरी को दूर करने के लिए गुलकंद का नियमित सेवन करने से कमजोरी ठीक हो जाती है।

17 माइग्रेन के दर्द में 12 ग्राम गुलाबजल में 1ग्राम असली नौशादर को मिलाकर अच्छे से मिला कर हिलाएं।

इसकी चार-पांच बूंदे नाक के अंदर खीचें। एैसा करने से माइग्रेन का दर्द ठीक हो जाता है।

गुलाब विशेष

गुलाब की कई किस्में होती हैं. रंग और आकार भी कई प्रकार के होते हैं.

लेकिन औषधीय उपयोग में देसी गुलाब ही लिया जाता है.

rose petals face pack for glowing skin flower face pack for glowing skin gulab ki pattiyon ka upyog rose face pack in tamil gulab ke phool ke fayde in hindi gulab ke phool ka upyog face pack for white glowing skin gulab ke fayde gulab full photo gulab phool gulab full video gulab full images

देसी गुलाब का रंग पिंक अथवा गुलाबी होता है तथा इसके फूलों से विशेष गुलाबी भीनी भीनी सुगंध भी आती है.

सारशब्द

गुलाब घर की शोभा को भी बढ़ाता है साथ ही आपकी सेहत के लिए भी बेहद उपयोगी फूल है,

बशर्ते आप इसकी सुगन्धित, देसी किस्म का उपयोग करें.

गुलाब से बनी चीजों का उपयोग करके कई रोगों से भी बच सकते हैं तथा उत्तम सौन्दर्य पा सकते हैं.

घर पर देसी गुलाब का एक पौधा ज़रूर लगाईये.

यह आपको सुकून भी देगा और स्वास्थ्य लाभ भी.





Digiprove sealCopyright protected by Digiprove © 2017
शेयर कीजिये

सुझाव दीजिये - कमेंट कीजिये

Posted in Foods & Herbs आहार,जड़ी-बूटियां, Home Remedies घरेलू नुस्खे and tagged .