Rem-IBS (रेम आय बी एस) – IBS संग्रहणी की बेजोड़ औषधि

830

Rem-IBS संग्रहणी अथवा IBS रोग की प्रमुख लाभकारी औषधि है.

इसके उपयोग से हठी एवं पुरानी संग्रहणी के उपद्रवों का कारगर उपचार होता है और साथ ही रोगों के दुष्प्रभावो का भी.

यह औषधि सालों के अध्ययन और रोगियों  से उपलब्ध जानकारी के आधार पर निरंतर उन्नत की जाती रही है.

Category:

Description

Rem-IBS (रेम आय बी एस) संग्रहणी अथवा IBS रोग की प्रमुख लाभकारी औषधि है. यह IBS के प्रभावों जैसे पेट में अफारा, मरोड़, आंव, दस्त, कब्ज़ में राहत देती है. इसके उपयोग से आँतों के हानिकारक बैक्टीरिया का उन्मूलन तो होता ही है साथ ही यह आंतो में आई सूजन को भी कम करती जाती है.

IBS संग्रहणी ke lakshan gharelu upay ilaj

हमारी छोटी आंत लगभग बैक्टीरिया रहित होती है. लेकिन संग्रहणी रोग के पुराने होने पर बड़ी आंत के बैक्टीरिया छोटी आंत में भी घुस आते हैं जिस कारण अकारण भारीपन, गैस, जी मिचलाना, एसिडिटी का प्रकोप बढ़ जाता है. यदि यह स्थिति अधिक समय तक बनी रहे तो H.pylori, salmonella, shigella जैसे बैक्टीरिया के संक्रमण से अलसर और घाव इत्यादि भी पनप जाते हैं और छोटी आंत के कैंसर के कारक भी बन जाते हैं.

छोटी आंत में बैक्टीरिया का बढ जाना SIBO (Small intestine bacterial overgrowth) रोग कहलाता है. RemIBS छोटी आंत के इस संक्रमण से राहत दिलाने में भी कारगर रहती है.

Rem-IBS के उपयोग से विषाणुओं के कारण पनपे आँतों के स्राव (Leaky gut) में भी सहायता मिलती है जिसके कारण कई autoimmune रोग जैसे सूजन, आर्थराइटिस, थाइरोइड इत्यादि हो जाया करते हैं.

IBS संग्रहणी पर विस्तृत जानकारी इस लेख पर देखी जा सकती है.

Rem-IBS (रेम आय बी एस) के संयोजक तत्व

Rem-IBS के प्रति 5 ग्राम मुख्य संयोजक तत्व इस प्रकार हैं

Anethum graveolens 1000mg

Unripe Aegle marmelos 1000mg

holarrhena antidysenterica 2000mg

Berberis aristata ext 500mg

Ras Parpati 250mg

Trikatu Extract 240mg

Bhavna dravya Oils of mentha, trachyspermum ammi, Syzygium aromaticum and camphor ext. QS

पैकिंग

Quantity 150 gram HDPE broad-mouth jar.

लेने की विधि

आधा चम्मच (लगभग 2 ग्राम) दिन में दो बार भोजन से पहले या चिकित्सक के विशेष निर्देशानुसार


आपके प्रश्न

यदि इस उत्पाद सम्बन्धी आपके कोई प्रश्न या जिज्ञासा हैं तो कृपया फ़ोन नंबर 78891 50990 पर संपर्क कर समाधान ले सकते हैं.