fbpx

Rajeev Sharma

Exploring to know who I am

खमीरीकृत भारतीय आहार – स्वस्थ पाचन के नायाब उपहार

खमीरीकृत अथवा किण्वित खाद्य पदार्थों का ज्ञान नया नहीं है. चिरकाल से ही खमीरीकृत भारतीय आहार में उपयोग किये जा रहे हैं. वास्तव में, ये खाद्य पदार्थ और पेय बहुत ही प्राचीन समय से सही तरीके से संसाधित खाद्य उत्पादों में से रहे हैं, जिन्हें कई पीढ़ियों पहले भी हमारे पूर्वज खाते थे.[1] पुरातत्ववेत्ताओं के अनुसार …

खमीरीकृत भारतीय आहार – स्वस्थ पाचन के नायाब उपहार Read More »

पायो निधि राम नाम

पायो निधि राम नाम – यही है असली धनतेरस का महत्त्व

धनतेरस का गूढ़ आध्यात्मिक महत्त्व है. सांसारिक वस्तुएं वैसे ही नष्ट होती रहती हैं, जैसे कि पेन, कॉपी, जूते, चप्पल, कपड़े और हमारा शरीर. संतजन कहते हैं जब हम अपनी माता या पिता (परमेश्वर) से कुछ नहीं मांगते तो उन्हें फ़िक्र होने लगती है कि कैसे हमारी संतान हमसे कुछ भी नहीं मांग रही. वे …

पायो निधि राम नाम – यही है असली धनतेरस का महत्त्व Read More »

पोटैशियम - जीवन के लिये बेहद ज़रूरी तत्व

पोटैशियम – जीवन के लिये बेहद ज़रूरी तत्व

कभी न कभी आपने अंगों का अचानक, अकारण फड़कना अवश्य अनुभव किया होगा. लेटे हुए या कभी कभार आराम की अवस्था में, जब उंगलिया, बाहों, जांघों, छाती या शरीर के किसी अन्य भाग में बिना किसी कारण, अचानक एक क्षणिक हलचल अकारण ही हो जाती है. इनका मुख्य कारण पोटैशियम की कमी ही है, बहुत ही …

पोटैशियम – जीवन के लिये बेहद ज़रूरी तत्व Read More »

मेथी methi ke gun labh fayde faide upyog मेथी दाना के गुण लाभ फायदे नुकसान उपयोग kasuri methi ke gun labh fayde upyog nuksan fenugreek leaves

मेथी है अनमोल – 14 प्रमाणित, उपयोगी लाभ

मेथी methi (English name: fenugreek) का सामान्य उपयोग मसाले के रूप में आहार को विशेष सुगन्धित करने के लिये किया जाता है. लेकिन आयुर्वेद में इसका उपयोग अनेक गुणसंपन्न औषधि के रूप में भी किया जाता है. आयुर्वेद में सन्दर्भ है… मेथति हिनस्ति रोगान्ह अर्थात, यह अनेक रोगों का नाश करती है. टॉनिक व औषधीय …

मेथी है अनमोल – 14 प्रमाणित, उपयोगी लाभ Read More »

जीवन है संग्राम

मन चंचल, चल राम शरण में – यही है आनन्द की सही कुन्जी

    मनसा वाचा, कर्मणा, मैं हूँ मेरे राम, अर्पित तेरी शरण में, सहित कर्म शुभ काम ॥ मन चंचल, चल राम शरण में राम ही तेरा जीवन साथी, नित्य हितैषी, सब दिन साखी, दो दिन के हैं, ये जग वाले, हरि अंग संग है, जन्म मरण में ॥१॥   जग में तूने प्यार बढ़ाया, …

मन चंचल, चल राम शरण में – यही है आनन्द की सही कुन्जी Read More »

error: Content is protected !! Please contact us, if you need the free content for your website.