प्याज़ pyaj pyaz ke gun labh fayde upyog in hindi

जानिये क्यों ज़रूरी है प्याज़ – 14 औषधीय और रसायन गुण उपयोग

Post updated on December 2nd, 2018

दुनियाभर की रसोईयों में प्याज़ की मुख्य भूमिका रहती  है.

प्याज (English name: Onion, botanical name : Allium ceppa)  के  बिना अधिकतर व्यंजनों के स्वाद की कल्पना भी नहीं की जा सकती.

प्याज के फायदे

आयुर्वेद में उल्लेख है:

प्लांडू पलति रक्षति, पल रक्षणे

प्याज़ बल वीर्य आदि बढाकर रोगों से रक्षा करता है.

लाल प्याज, सफ़ेद प्याज, भूरा प्याज

यही नहीं, गरुड़पुराण में प्लांडूगुटिका का एक पूरा पाठ है, जो यह दर्शाता है कि किसी समय प्याज़ एक पूज्य वनस्पति भी थी.

आयुर्वेद में प्याज को कफ़निस्सारक (Cough reliever), वृष्य अर्थात वाजीकारक, बल्य (Tonic) बताया गया है.

इसे मूत्रजनन (Diuretic),

अग्निवर्धक (Appetite excitant),

वातहर (gas reliever),

दूषित पित्तहर (Blood purifier) एवं

क्रिमिहर (anti-bacterial) इत्यादि भी बताया गया है.

प्याज के अन्य नाम

पियाज, पेयाज, गंडा, कांदा, नीरूल्ली, डुंगली, कांदो, वेंग्यम, लुनु, बसर, बवंग इत्यादि प्याज के अन्य भारतीय नाम हैं.

प्याज़ के औषधीय गुण

प्याज आहार को स्वादिष्ट तो बनाता ही है साथ ही यह एक बेहतरीन औषधि भी है.

कई रोगों में तो यह रामबाण दवा के रूप में काम करता है.

आईये, जानते हैं, इसके ऐसे ही अदभुत गुणों और उपयोगों के बारे में…

1. यौन शक्ति बढ़ाने के लिए

प्याज खाने से शरीर की रतिक्षमता बढती है।

शारीरिक क्षमता को बढाने के लिए सदियों से ही प्याज का इस्तेमाल होता आया है।

यह महिला व पुरुष दोनों  के लिए कामोत्तेजक बताया गया है.

शायद केवल इसी कारण ही इसे तामसिक कहा जाता है.

यह भी पढ़िये >यौन शीघ्रपतन निवारण के कई अन्य उपाय

शीघ्रपतन निवारण के 9 असरदार घरेलू नुस्खे – आजमाईये; खुश रहिये

2. उम्र बढाने के लिए

प्याज खाने से कई बीमारियां नहीं होती हैं।

इसके आलावा यह बीमारियों को दूर भी भगाता है।

इसलिए यह कहा जाता है कि इसे खाने से उम्र बढती है,

क्योंकि इसके सेवन से कोई बीमारी नहीं होती और शरीर भी स्वस्थ रहता है।

3. लू लगने पर

गर्मियों  में प्याज खाने से लू नहीं लगती, क्योंकि प्याज़ की तासीर तर गर्म होती है.

लू लगने पर इसके रस को पीना चाहिए.

और सीने पर रस की कुछ बूंदों से मालिश करने पर भी लाभ मिलता है.

ऐसी मान्यता है कि एक छोटा प्याज जेब में रखने पर भी लू नहीं लगती है.

4. नकसीर व चक्कर में

प्याज के रस की नसवार (नस्य) से नकसीर बंद हो जाती है.

यदि चक्कर आये तो इसे सुंघाये जाने पर लाभ मिलता है.

5. बालों के लिए प्याज है नायाब

बाल गिरने की समस्या से निजात पाने के लिए प्याज बहुत ही असरकारी होता है.

यह इसके anti fungal गुणों के कारण होता है.

गिरते बालों के लिए, गिरते हुए बालों के स्थान पर इसका रस लगाने से बाल गिरना बंद हो जाएंगे।

इसके अतिरिक्त बालों पर इसके रस या पेस्ट का लेप लगाने पर काले बाल उगने शुरू हो जाते हैं।

प्याज के रस के फायदे बालों के लिए कई हैं.

यह भी पढ़िये: घने काले बालों के लिये विशेष नुस्खे

जानिये काले घने बालों के लिये 7 कारगर घरेलू उपाय

6. मसूड़ों की सूजन या दांत दर्द

इसको नमक के साथ मिला कर चबाने से दन्त शूल व मसूड़ों की सूजन में लाभ मिलता है.

7. मूत्र अवरोध में

अगर पेशाब होना बंद हो जाए तो दो तीन चम्मच प्याज का रस चुटकी भर सुहागा या कलमी शोरा के साथ देने पर पेशाब आना शुरू हो जाता है।

इसे पानी में उबालकर पीने से भी पेशाब संबंधित समस्या समाप्त हो जाती है।

8. बवासीर के दर्द में

इसके रस को मिश्री के साथ देने पर या उसे घी में जीरा व हींग से भून कर देने पर बवासीर के दर्द में लाभ मिलता है.

यह भी पढ़िये: बवासीर निवारक घरेलू नुस्खे

रीठा – बवासीर (Piles) का आसान अचूक उपाय

9. भूख बढ़ाने के लिये

प्याज को सिरके में मिलाकर रखें.

तीन दिन बाद यह प्याज़ खिलाने से भूख लगने लगती है.

यह उन के लिये लाभकारी है जिनकी गर्मी के मौसम में भूख कम हो जाती है.

प्याज के पत्ते अथवा हरी प्याज

 10. दृष्टि में धुन्द्लापन

यदि दृष्टि में धुन्द्लापन हो तो इसका रस मधु (दोनों समभाग) में मिला कर आँखों में डालना चाहिए.

जबकि रात्रि अन्धता (Night blindness) में इसके रस में नमक मिला कर आँखों में डालना चाहिए.

11. पथरी के लिए

कहीं उल्लेख तो नहीं, लेकिन एक लोक धारणा है कि प्याज के रस को चीनी में मिलाकर शरबत बनाकर पीने से पथरी से निजात मिल सकती है।

इसका रस सुबह खाली पेट पीने से पथरी अपने-आप कटकर मूत्र के रास्ते से बाहर निकल जाती है।

यह भी पढ़िये: पथरी निवारण के घरेलू नुस्खे

गुर्दे मूत्राशय की पथरी के 13 घरेलू उपचार

12. गठिया के लिए

गठिया में प्याज बहुत ही फायदेमंद होता है।

गठिया रोग में सरसों का तेल व प्याज का रस मिलाकर मालिश करें, फायदा होगा।

यह इसमें सल्फर के होने के कारण होता है. लेकिन तेज़ दर्द के लिये ये नुस्खा कामयाब नहीं होता.

13. कफ़विकारों  में

कच्चे प्याज के रस को मिश्री मिलाकर बच्चों को चटाया जाता है.

बड़ों के लिये इसका पका शोरबा देना चाहिए.

यह उपयोग बिलकुल प्रमाणित और सटीक है.

14. अन्य उपयोग

प्याज कई अन्य कई शारीरिक समस्याओं जैसे – मोतियाबिंद, सिर दर्द, कान दर्द और सांप के काटने पर भी प्रयोग किया जाता है।

इसका पेस्ट लगाने से फटी एडियों को राहत मिलती है।

प्याज का रस कैसे निकाला जाता है

यह काम बड़ा ही आसान है.

प्याज़ को काट कर मिक्सर या सिलवट्टे पर पेस्ट बना लें.

इस पेस्ट को सूती कपडे में डाल कर निचोड़ लें.

लीजिये, प्याज़ का रस बन गया. बालों के लिए प्याज का प्रयोग इसका रस लगा कर किया जाता है जिससे रूसी में लाभ मिलता है.

प्याज का रस नारियल तेल मिलाकर भी उपयोग करते हैं.

प्याज़ विशेष

आजकल सोशल मीडिया में सफेद प्याज के फायदे अन्य प्याज से अधिक बताये जाते हैं.

बताया जाता है कि सफेद प्याज के औषधीय गुण खास होते हैं, सफ़ेद प्याज के फायदे अधिक होते हैं, यह अधिक गुणकारी होता है, वगैरह वगैरह.

कोरी गप्प है यह, जिसका न तो कोई आयुर्वेदीय सन्दर्भ है न ही कोई वैज्ञानिक आधार.

यदि आप प्याज़ के पूरे गुण चाहते हैं तो जान लीजिये, सफ़ेद प्याज़ सबसे कम गुणकारी होता है, जबकि लाल प्याज के फायदे अधिक होते हैं.

सफ़ेद प्याज़ से बेहतर होता है प्याजी रंग वाला और फिर सबसे तेज़ होता है गहरे लाल बैंगनी रंग वाला.





 

Digiprove sealCopyright protected by Digiprove © 2017
शेयर कीजिये

आपके सुझाव और कमेंट दीजिये