जीवन है अनमोल जीवन सार जीवन का अर्थ जीवन उपहार है

जीवन है अनमोल – जानिये, कितने भाग्यशाली हैं आप

जीवन के कई अर्थ लगाये जा सकते हैं. लेकिन सभी अर्थ और भावार्थ एक ही लक्ष्य को इंगित करते हैं. कि ‘जीवन है अनमोल’ बुरा कहने से बचें… सोचिये उनके बारे में, जो बोल भी नहीं सकते. हमें वाणी मिली है…. कितनी बड़ी ईश्वरीय देन है. जब मुख-जिव्हा स्वादिष्ट व्यंजन ही पसंद करते हैं. तो […]

शेयर कीजिये
जीवन है संग्राम - जगत में कहीं नहीं विश्राम

जीवन है संग्राम – जगत में कहीं नहीं विश्राम

संसार में यदि कहीं कोई जगह या स्थिति है जहाँ पूर्ण आनंद और शांति मिले… तो वह है, परमेश्वर का सानिध्य ध्यान, सिमरन, जाप, कीर्तन-भजन; सानिध्य के साधन हैं. यह गायन इसी आशय की जीवंत प्रस्तुति है. सुनिए और आनंद लीजिये अलोक सहदेव जी के इस मधुर गायन का. आप इसे डाउनलोड भी कर सकते […]

शेयर कीजिये
दुनियां में सिकन्दर कोई नहीं duniya-mein-sikandar-koi-nahin

दुनियां में सिकन्दर कोई नहीं

सिकन्दर उस जल की तलाश में था, जिसे पीने से मानव अमर हो जाते हैं.!   काफी दिनों तक देश दुनियाँ में भटकने के पश्चात आखिरकार सिकन्दर ने वह जगह पा ही ली, जहाँ उसे अमृत की प्राप्ति होती !   वह उस गुफा में प्रवेश कर गया, जहाँ अमृत का झरना था, वह आनन्दित […]

शेयर कीजिये
मौन भाव - अदभुत गायन, एकान्त में सुनिये

मौन भाव – अदभुत गायन, एकान्त में सुनने योग्य

संतजन हमेशा ही मौन की महता समझाते रहे है. मौन भाव मौन का अभ्यास मानसिक रोगों जैसे चिंता, व्यग्रता, तनाव, संताप, अनिद्रा, ब्लडप्रेशर इत्यादि से रोगमुक्ति की अनुपम औषधि भी है. अपने आप को कभी भी, कमरे में बंद कर या किसी एकांत में, इस अनुपम प्रस्तुति का आनंद उठाईये. सुनिए, मौन भाव के गीत […]

शेयर कीजिये
राम से अनुराग करिये

राम से अनुराग करिये

राम से अनुराग करिये सृष्टि में जो कुछ समाहित है वही एक स्वाद जो राम है वस राम प्राणी, कुछ नहीं विवाद जो जीव  में धड़कन वही है अग्नि में है आग जो भक्ति की गंगा है बहती नित बसंत भाग जो शक्ति के हैं पुंज वो तो मोह संग वैराग जो राम में अनुरक्त रहिये […]

शेयर कीजिये

जो भजे हरी को सदा

जो भजे हरी को सदा, सो परम पद पायेगा राम जो भजे हरी को सदा, सो परम पद पायेगा फेर के माला, तिलक और भस्म नहीं कुछ काम के प्रेम भक्ति के बिना, कहीं हाथ के मन आयेगा? दिल के दर्पण को सफा कर, भूल कर अभिमान को खाक हो गुरु के चरण की, तो प्रभु मिल जायेगा छोड़ […]

शेयर कीजिये

महाशिवरात्रि पर्व – प्रेरणादायी दंतकथा

  महादेव शिव अति दयालू हैं, कृपा निधान हैं. भक्तों की सहायता के लिए आतुर हो जाते हैं.  एक महाशिवरात्रि पर्व दृष्टान्त इस प्रकार है… एक शिकारी जंगली जानवरों का शिकार कर अपने परिवार का भरण-पोषण किया करता था। हमेशा शिकार नहीं मिलने के कारण  वह एक महाजन से क़र्ज़ भी लेता रहता था.

शेयर कीजिये